Wednesday, October 20, 2010

"main tujhse door jaa rhi hun"

after a long tym something directly from my heart,.,.,. tried to express some unspoken feelings in words......

main tujhse door jaa rahi hun,
jaane- anjaane apne raaste bhoola rahi hun,
tujhe apne sapno se door le jaa rahi hun,
khud ko bin tere jeena seekha rahi hun,
ab main tujhse door jaa rahi hun.,.,.,.,.

naa main bewafa, naa tu bereham tha,
mere zakhamo ka tera pyar he ik marham tha,
fir bhi dil ko bin dhadkan jeena seekha rahi hun..
main tujhse door jaa rahi hun..... main tujhse door jaa rahi hun

hawaan ke jhaunkhe sa tu zindagi me aaya,
kitni maasumiyat se tune jeena seekhaya,
dukhon me hasaya, khushiyon me rulaya,
tune mujhe fir " main " banaya,
par naa jaane kyu aaj main dagmga rahi hun,
main tujhse door jaa rahi hun!!!!

naa chahte hue bhi ajnabi raaste apna rahi hun,
apne kashti ko apne haathon se dooba rahi hun,
sirf teri the yeh "aalisha" aaj kisi aur ki ho rahi hai
sunsaan raaste me baith, teri yaadon me ro rahi hai,

rok sakta hai to ro le sanam mujhe,
kahin "main" se "tum" aur "tum" se "wo" na ho jau,
bna le apna mujhe kahin iss anjaani bheedh me naa kho jau!!!!


devnagari version
मैं तुझसे दूर जा रही हूँ ,
जाने - अनजाने अपने रास्ते भूला रही हूँ ,
तुझे अपने सपनो से दूर ले जा रही हूँ ,
खुद को बिन तेरे जीना सीखा रही हूँ ,
अब मैं तुझसे दूर जा रही हूँ .,.,.,.,.

ना मैं बेवफा , ना तू बेरहम था ,
मेरे ज़ख्मो का तेरा प्यार ही इक मरहम था ,
फिर भी दिल को बिन धड़कन जीना सीखा रही हूँ ..
मैं तुझसे दूर जा रही हूँ ..... मैं तुझसे दूर जा रही हूँ

हवां के झोंखे सा तू ज़िन्दगी में आया ,
कितनी मासूमियत से तुने जीना सीखाया ,
दुखों में हसाया , खुशियों में रुलाया ,
तुने मुझे फिर " मैं " बनाया ,
पर ना जाने क्यों आज मैं डगमगा रही हूँ ,
मैं तुझसे दूर जा रही हूँ !!!!

ना चाहते हुए भी अजनबी रास्ते अपना रही हूँ ,
अपने कश्ती को अपने हाथों से डूबा रही हूँ ,
सिर्फ तेरी थी यह "आलिशा " आज किसी और की हो रही है
सुनसान रास्ते में बैठ , तेरी यादों में रो रही है ,

रोक सकता है तो रोक ले सनम मुझे ,
कहीं "मैं " से "तुम " और "तुम " से "वो " ना हो जाऊ ,
बना ले अपना मुझे कहीं इस अनजानी भीढ़ में ना खो जाऊ !!!!

Sunday, August 22, 2010

dga...... "दगा"

after a long tym m writing something romantic...... awaiting for ur comments..... :)


chhup chhup ke chahaa tumhe par izhaar-e-mohabbat se darte hai,
"......" teri yaad me aksar hum ik raat guzara karte hai......

pyar ke badle pyar mile aisa to zaruri nahi,
fir bhi hum tere hone ki ik aas lagaya karte hai.....

duniya ki bheedh me tujhe thaam na paye to kya hua,
har sajde me hum tere liye yeh sar jhukaya karte hai......

tujhe dekh ke kisi ki baahaon me yeh dil jalta kuch iss tarah,
jaise sholey kisi shabnam ko jalaya karte hain.....

jab tak chaha dil se sabko,baat baat pe toota dil,
hue jo pathar log hume pyar ki murat kehte hai....

ladte hain har roz hum sab,haar jeet ke maslo par,
par pyar ki jeet ko dil ki haar hum he log toh kehte hai......

humko andekha kar ke wo sabko chaha karte hai,
pyar bhi mera chahe mujhe shayad isse he kismat kehte hai...

tu sapna hain ya haqiqat iss kashmaqash me hai yeh dil,
par har sapne me tere liye sej sajaya karte hai....

jhooth hai duniya daari sab,pyar mohabbat or jeena,
maut he aakhir sabka saath nibhaya karti hai........


jab tak karte the dhoka,duniya humari wafa ko tarasti the.
ki jo wafa humne to dhokhe ne bhi humse dagga kar li.....



छुप छुप के चाहा तुम्हे पर इज़हार -ए-मोहब्बत से डरते है ,
"......" तेरी याद में अक्सर हम इक रात गुज़ारा करते है ......

प्यार के बदले प्यार मिले ऐसा तो ज़रूरी नहीं ,
फिर भी हम तेरे होने की इक आस लगाया करते है .....

दुनिया की भीढ़ में तुझे थाम ना पाए तो क्या हुआ ,
हर सजदे में हम तेरे लिए यह सर झुकाया करते है ......

तुझे देख के किसी की बाहों में यह दिल जलता कुछ इस तरह ,
जैसे शोले किसी शबनम को जलाया करते हैं .....

जब तक चाहा दिल से सबको ,बात बात पे टूटा दिल ,
हुए जो पत्थर लोग हमे प्यार की मूरत कहते है ....

लड़ते हैं हर roz हम सब ,हार जीत ke मसलो पर ,
पर प्यार की जीत को दिल की हार hum ही लोग तो कहते है ......

हमको अनदेखा कर के वो सबको चाहा करते है ,
प्यार भी मेरा चाहे मुझे शायद इससे ही किस्मत कहते है ...

तू सपना हैं या हकीक़त इस कश्मक़श में है यह दिल ,
पर हर सपने में तेरे लिए सेज सजाया करते है ....

झूठ है दुनिया दारी सब ,प्यार मोहब्बत और जीना ,
मौत ही आखिर सबका साथ निभाया करती है ........


जब तक करते थे धोका ,दुनिया हमारी वफ़ा को तरसती थे .
की जो वफ़ा हमने तो धोखे ने भी हमसे दगा कर ली .....

Friday, July 23, 2010

chees...

aaj yun toot kar har aansu meri hatheli me samya hai,
maano ik thake hue bache ko maa ne godh me sulaya hai,
yun toot gyi main aaj bikhar kar ,
toota hai koi mehal jaise taash ka bankar

par apni vaydha sunanne ko mujhe koi na mila
apne aansuon se maine inn hontho ko sila,
mere mann ki awaaz itne zor se karhai the,
wo chees mere dimaag ki nas tak samayi the,

sawalon ka yudh chal rha tha mere mann me,
rasta bhoola ho jaise koi van me
ik lambi saans ko taras gye hum,
aansu bole jitne the aaj baras gye hum


आज यूँ टूट कर हर आंसू मेरी हथेली में समाया है ,
मानो इक थके हुए बच्चे को माँ ने गोद में सुलाया है ,
यूँ टूट गयी मैं आज बिखर कर ,
टूटा है कोई महल जैसे ताश का बनकर

पर अपनी व्यथा सुनांने को मुझे कोई ना मिला
अपने आंसुओं से मैंने इन् होंठो को सिला ,
मेरे मनं की आवाज़ इतने जोर से कर्हाई थी ,
वो चीस मेरे दिमाग की नस तक समायी थे ,

सवालों का युद्ध चल रहा था मेरे मन में ,
रास्ता भूला हो जैसे कोई वन में
इक लम्बी सांस को तरस गये हम ,
आंसू बोले जितने थे आज बरस गये हम


Monday, July 5, 2010

ateet

part 3
dis is the 3rd part of vedna as the previous one it is also the real lyf story of her daughter...how she feels without the love of her father, how her childhood was spent in the domestic violence.... but still she owes a personality dat inspires loads of ppl!!!
it is a technical poem n i hope ol d engg(spcly civil engg) will njy dis.....
here every pillar is compared wid sum1 in her lyf.......

main ik teen stanbh ki chaukar imaarat hun,
ik majboot neev par kamjoor chat,
mujhe log kla ka karishma kehte hai,
mujhe niharne ko mere paas rehte hai...
kisi ki mujhe sanwarne ki tammana hai
to kisi ki mujhe khareedne ki ichcha!!


anjaan hai sab ki ek stanbh kamjoor bhi hai,
main majboot bane khadi hun to raaz kuch or bhi hai
iss stanbh ko kamjoor karta mera attet hai,
fir bhi na jaane kyu mujhe isse he preet hai,


ik samne ka stanbh hai,
jiska sariya buland hai,
wo meri chhat ko tikaye khada hai,
shayad yeh sariya shakatishali bda hai!!


mera teesra stanbh sabse anokha hai,
kab kamjoor ho jayega sab aankh ka dhokha hai,
yeh toh kuch hisson se bna hai,
iska ek ansh mere aansuon se sna hai,


jab lagta hai main deh jaungi ,
yeh stanbh mujhe sambhalta hai,
apne vishwas ko mere astitav me dhalta hai!!!


jald he mujhe chutha stanbh banana hai,
iss chat ko ab manjil bnana hai,
par iss stanbh ki zimmedari badi hai,
mujhe sambhala hai usse thodi mushkil ghadi hai,


dekhna yeh hai ki yeh kismat kya rang dikhayegi,
manzil bnegi yahan ya yeh chat bhi deh jayegi!!!!




मैं इक तीन स्तंभ की चौकर इमारत हूँ ,
इक मजबूत नीव पर कमजोर छत ,
मुझे लोग कला का करिश्मा कहते है ,
मुझे निहारने को मेरे पास रहते है ...
किसी की मुझे सँवारने की तम्मना है
तो किसी की मुझे खरीदने की इच्छा !!


अनजान है सब की एक स्तंभ कमजोर भी है ,
मैं मजबूत बने कड़ी हूँ तो राज़ कुछ और भी है
इस स्तंभ को कमजोर करता मेरा अतीत है ,
फिर भी न जाने क्यों मुझे इससे ही प्रीत है ,


इक सामने का स्तंभ है ,
जिसका सरिया बुलंद है ,
वो मेरी छत को टिकाये खड़ा है ,
शायद यह सरिया शकतीशाली बड़ा है !!


मेरा तीसरा स्तंभ सबसे अनोखा है ,
कब कमजोर हो जायेगा सब आँख का धोखा है ,
यह तो कुछ हिस्सों से बना है ,
इसका एक अंश मेरे आंसुओं से सना है ,


जब लगता है मैं ढेह जाउंगी ,
यह स्तंभ मुझे संभालता है ,
अपने विश्वास को मेरे अस्तित्व में ढालता है !!!


जल्द ही मुझे छूता स्तंभ बनाना है ,
इस छत को अब मंजिल बनाना है ,
पर इस स्तंभ की ज़िम्मेदारी बड़ी है ,
मुझे संभाला है उसे थोड़ी मुश्किल घडी है ,


देखना यह है की यह किस्मत क्या रंग दिखाएगी ,
मंजिल बनेगी यहाँ या यह छत भी ढेह जाएगी !!!!





Wednesday, June 2, 2010

vedna.......

dis is a real lyf story of a women whom u ppl know very well.....its how a gal whose childhood was lyk a princess but unfortunately got married in a family wer she was treated as servant....
and while doing ol d household work she missed her mom...
later wen she herself became a mother realised dat she hav to do sumthing for her children

the first part is abt her weakness and the second one is abt her powers...

n der is a request if u know her name den plz don mention it here....


part 1

jab iss andheri rasoi me apne sir ko apni god ka sahara dete hue
main bahar dekhti hun,mujhe meri maa ki yaad aati hai....

jab thak kar choor main kisi deewar ka sahara leti hun,
mujhe uss makhmali bistar si god ki yaad aati hai..

jo parchai aaj bhi inn aansuon ko churane aati hai,
dekh uss parchai ka chehra mujhe meri maa ki yaad aati hai,

jab dhool mitti se lath path ho jaati hun,
to mujhe uss besan k ubtan ki yaad aati hai,

jab taano fatkaro se mere kaan ghoonjh udhate hai to,
unhe chup karwane meri maa ki yaad aati hai,

saja kar rakhti the inn hasth kamlo ko wo,
har bartan ki mael ko htane meri maa ki yaad aati hai,

jab dekhti hun inn malik se rishto ko,
to bachpan ki kahaniyon se mujhe meri maa ki yaad aati hai,

raat ko bistar ki garmahat me,din ko ghar ki sajawat me,
jab meri jakhamon ko nocha jata hai to mujhe meri maa ki yaad rulati hai,

har jakham pe uski baaton ka marhum lagati hun,
har gum ko uski hassi se bhulati hun,
iss jahnum me uska aana mna hai,
isliye khuda ne uske liye jannat ka rasta chuna hai...........


part 2
ab main bhi maa ban gyi hun,
gilli mitti se pathar ban gyi hun,
kyunki mujhe inn bacho ko palana hai,
duniya misaal de inki uss saanhe me dhalna hai,

apne dukho ko apni takat bnaungi
apne toote hue sapno ko inki aankho me sajaungi,
inki umar ke saath saath humara honsla bhi badhega,
hume pairon me rondne wala humari ik lalkaar se darega,

main seeta ko or badi misaal bnaungi,
main apne liye sone ka mrig khudh le ke aayungi,
mere liye lakshman rekha kheenchi nhi jayegi,
meri agni priksha ho wo nobat nhi aayegi,


humare aansuon ko apni hassi banane wale,
ab apne paapon par pachtayenge,
hume thukrane wale humare he dar par gidgidayenge,

main nirmal paani si the,yahan zehar bnai gyi,
main shaant shabnam si the,yahan chingari si jalai gyi,
lakshmi saraswati si thukrai main,yahan chandi si apnai gyi,

saas bhai pati pita na koi zajbati hai,
hume rulane wala har koi apradhi hai,
khudh par hue julmon ko sare aam main bolungi,
insaaf ki devi ki aankhon se main patti kholungi,

apne bure waqt ko tumne khudh pukarra hai,
kisi ko maafi nhi milegi ab waqt humara hai!!

जब इस अँधेरी रसोई अपने सर को अपनी गोद का सहारा देते हुए
मैं बाहर देखती हूँ ,मुझे मेरी माँ की याद आती है
जब थक कर चूर मैं किसी दीवार का सहारा लेती हूँ,
मुझे उस मखमली बिस्तर सी गोद की याद आती है,

जो परछाई आज भी इन् आंसुओं को चुराने आती है,
देख उस परछाई का चेहरा मुझे मेरी माँ की याद आती है,
जब धुल मिटटी से लथ-पथ हो जाती हूँ,
तो मुझे उसके बेसन के उबटन की याद आती है,
जब तानो फटकारो से मेरे कान गूँज उठते है तो उन्हें चुप करवाने मेरी माँ की याद आती है,

सजा के रखती थे इन् हस्त कमलों को वो,
हर बर्तन की मैल को हटाने मेरी माँ की याद आती है,

जब देखती हूँ इन् मालिक से रिश्तों को
तो बचपन की कहानियों से मुझे मेरी माँ की याद आती है,

रात को बिस्तर की गर्माहट में ,दिन को घर की सजावट में,
जब मेरे ज़ख्मों को नोचा जाता है,मुझे मेरी माँ की याद रुलाती है....
हर ज़ख़्म पर उसकी बातों का मरहम लगाती हूँ,
हर गम को उसकी हस्सी से मिटाती हूँ,
इस जन्हुम में उसका आना मना है,
इसलिए खुदा ने उसके लिए जन्नत का रास्ता चुना है!!!!

२।
अब मैं भी माँ बन गयी हूँ ,
गिल्ली मिटटी से पत्थर बन गयी हूँ,
क्यूंकि मुझे इन् बच्चों को पालना है,
दुनिया मिसाल दे इनकी उस सांचे में ढालना है

अब मैं अपने दुखों को अपनी ताकत बनाउंगी
अपने टूटे हुए सपनो को इनकी आँखों में सजाऊँगी,
इनकी उम्र के साथ साथ हमारा होंसला भी बढेगा,
हमे पैरों में रोंधने वाला हमारी इक ललकार से डरेगा

मैं सीता को इक और बड़ी मिसाल बनाउंगी,
मैं अपने लिए सोने का मृग खुद ले के आयुंगी,
मेरे लिए कोई लक्ष्मण रेखा खींची नही जाएगी,
मेरी अग्नि परीक्षा हो वो नोबत नही आएगी......


हमारे आंसुओं को अपनी हस्सी बनाने वाले ,अपने पापों पर पछतायेंगे
हमे ठुकराने वाले हमारे दर पर gidhgidhayenge ,

मैं निर्मल पानी सी थी, यहाँ ज़हर बनाई गयी,
मैं शांत शबनम सी थे,यहाँ चिंगारी सी जलाई गयी,
लक्ष्मी सरस्वती सी ठुकराई मैं,यहाँ चंडी सी अपनाई गयी,

सास भाई पति पिता न कोई ज़ज्बाती है,
हमे रुलाने वाला हर कोई अपराधी है,
खुद पर हुए ज़ुल्मो को सरे आम मैं बोलूंगी,
इन्साफ की देवी की आँखों से मैं पट्टी खोलूंगी

अपने बुरे वक़्त को तुमने खुद पुकारा है,
किसी को माफ़ी नही मिलेगी अब वक़्त हमारा है
अब वक़्त हमारा है.........

Friday, May 7, 2010

adhoorapan

sometyms we feel a lonliness in our lyf.....having both gud and bad side....
how we feel happy and sad jus wid an imagination of our sum1 spcl(who is sometyms still in our dreams).... if u too feel the same den plz let me know... :)

ik adhoorapan hai meri zindagi me,
meri khilkhilati hassi me..... meri udaas khamoshi me
jaise kuch pane ki khuwahish ho.....
ya kuch khone ka sapna!!!

yeh adhoorapan aksar mujhe mere sirhane milta hai....
shayd tere hone ka ehsaas dilata hai,
ya tujhe aur karreb laane ka shadyantra rachata hai........

kabhi meri jeet ki khushi me,kabhi meri aankho ki nami me,
kabhi akele raasto me,kabhi geele zakhmo ko sehla jata hai...
yeh adhoorapan!!

jab kehni ho apne mann ki baat to tera naam sujhata hai,
jab apne kal ko sochti hun tere chehre ke saath chala aata hai...
kabhi ho natkhat mujhe preet seekhata hai,
kabhi meri god ko aansuon se bhigha jata hai.....

kathor raaston pe phoolon sa, komal sej pe kaanto sa lagta hai
mujhe mera akelapan!!



इक अधूरापन है मेरी ज़िन्दगी में ,
मेरी खिलखिलाती हंसी में , मेरी उदास ख़ामोशी में ,
जैसे कुछ पाने की खुवाहिश हो ...
या कुछ खोने का सपना !!

यह अधूरापन अक्सर मुझे मेरे सिरहाने मिलता है .....
शायद तेरे होने का एहसास दिलाता है ,
या तुझे और करीब लाने का षड़यंत्र रचाता है

कभी मेरी जीत की ख़ुशी में, कभी मेरी आँखों की नमी में ,
कभी मेरे अकेले रास्तों में, कभी गीलें ज़ख्मों को सहलाने आ जाता है
यह अधूरापन .......

जब कहनी हो अपने मन की बात तो तेरा नाम सुझाता है ,
जब अपने कल को सोचती हूँ तो तेरे चेहरे के साथ चला आता है...
कभी हो नटखट मुझे प्रीत सीखाता है,
कभी मेरी गोद को आंसुओं से भिगाता है

कठोर रास्तों पे फूलों सा , कोमल सेज पे काँटों सा लगता है ...
मुझे मेरा अकेलापन !!!

Sunday, April 18, 2010

naam

लिखना चाहू जो मैं कुछ ,हाथ मेरा थम जाता है,
लिखना चाहती हूँ मैं आलीशा , वो _____ बन जाता है
कहना चांहू जो तुझसे कुछ तो कंठ अविरुद्ध हो जाता है
जाना चांहू जो तुझसे दूर दिल तेरे पास रह जाता है....

होती हूँ जो साथ तेरे सब सुंदर सा हो जाता है
तू जो मुझको देखे तो रूप मेरा खिल जाता है
लिखना चांहू जो प्यार भी नाम तेरा याद आता है
गूँज गूँज मेरे कानो में नाम तेरा तडपता है

हम दोनों की रुहू का तो जन्मो से हे नाता है,
तू माने या माने तू भी मुझको चाहता है,
बातें मेरी अंदाज़ मेरा तुझे भी लुभाता है,
पर ना जाने क्यों तू इकरार से कतराता है

ना कर तू इकरार भी आँखें इज़हार कर जाती है
छुप छुप के यह आँखें मुझे तेरा हाल- e-दिल बताती है
जो ना चांहू लिखना तो कलम खुद ही चल जाती है
रह रह के हर कागज़ पे नाम तेरा सजाती है

इस रिश्ते की डोर को मैं और मज़बूत बनाउंगी
अपने प्यार के महल को अपनी साँसों से सजाऊँगी
पर जो तू ना मिल पाया तो , कांच सी टूट जाउंगी
अपने अश्कों को उन् पन्नो पे बहाउंगी, और उनसे मैं तेरे नाम को mitaaungi

अब तेरा मेरी कलम से रिश्ता गहरा हुआ जा रहा है
हर अक्षर में आज मुझे तेरा चेहरा नज़र रहा है

Tuesday, April 6, 2010

Alfaaz...

here also don hav alfaaz to even describe dis poem.....
but hope u ppl will understand dis silence described in my way.....

kehna hai tujhse bahut kuch,
par alfaaz kahan se lau???

gugunana hai tere kaano me kuch,
par jo bhaye tujhe wo geet kahan se lau??

sona chahti hun main tamaam umar teri baahon me,
par jo na toote tere khayal se wo khawab kahan se lau??

"sohni" ke paas b kaccha ghada tha doobne ko,
tere naam se koi dooba de wo saagar kahan se lau??

itna yakeen hai iss muqaddar par ki khuda ne tujhe mera bna kar bheja hai...
par tujhe b ho meri chahat ka ehsaas wo dua kahan se lau???

nhi udeek sakti main tujhe umar bhar,
tu bhi samjhe isse wo jasbhat kahan se lau??

toot jana chahti hun teri bhahon me main,
par jo lubhaye tujhe wo kashish kahan se lau???

dhoop me to koi b pighal jaye,
chandni jiski pighla de wo chand kahan se lau???

kehna hai tujhse bahut kuch par alfaaz kahan se lau???

( sohni= belovered of mahiwal

udeek= intzaar)

Saturday, March 13, 2010

jhansi ki rani......

apne liye bahut padh liye...apne liye paise bhi kama liye.,.,.,par ab agar apni padhai or gunno ko desh or duniya k kaam la sake .....to shayad hum insaan hone ka dhram nibha sake!!!!
janam k adhar par bani jatiyon me to bachpan se jee rhe hai.....aaj insaano ki b ek jaat bna le......



aaj main neend se jaagi,to maine andhera dekha...
suraj ki roshni me bhi ubharta andhera,
jahan jhooth,fareb,hinsa k phool khil rhe the,
jahan bhr-ashat netayon,pakhandi sadhuyon,or hinsak suraksha-karimiyon ki pooja ho rhi the

jahan aurat k apmann me he mardo ka sam-man tha,
jahan apni beti ki izzat se khelta koi haiwan tha,
jahan majdooro ke khoon se bharte kayi tai-khane the,
jahan apni maa k dhoodh ko dhikarte ussi k siyane the,

or fir mujhe ehsaas hua,
ki main iss kushad samjh ka hissa hun.....
or baithe yeh kadhputali naach dekh rhi hun!!!!

par ab mujhe sahas dikhana hoga,
mujhe ek nirogi samjh bnana hoga,

jahan ladki ko chedne wala har ladka lajjayega,
jahan aurat ki aabru rupaye-takoo me nhi bikegi,
jahan jism ke bhookhe bhediyon k sir kuchal diye jayenge,
jahan kodiyon k bhaav apna mat nhi behca jayega,

jahan gaddaron ko kursiyon par sajaya nhi jayega,
jahan nirdoshon ko kodariyon me jalaya nhi jayega,
jahan taj k kalakaro k haath kate nhi jayenge,
jahan dharam ke naam par insaniyat ko bulaya nhi jayega,
jahan jan-ni ko jammen par sulaya nhi jayega!!!


jahan garibo ke aansuyon se aur khet seenche nhi jayenge,
jahan aanath khudh ko tanha nhi payenge,
jahan kandhe se kadha mila kar poora samaj chalega.....
dhram aur jaati k naam par na ab koi aur ghar jalega

jahan kannon ki b aankhe hongi


main chilla chilla kar kehti hun,
main har aurat se kehti hun,
ki ab hum iss napunsak samaj k saath or nhi reh sakte..
ab hum aur julam seh nhi sakte,

ab hume awaaz uthani hai,
ab hume himmat dikhani hai,
or ik aise duniyan banani hai,
ki har koi garv se keh sake...

"haan mere ghar bhi ik jhansi ki rani hai".....

Thursday, March 4, 2010

Haan mujhe bhi pyarr hua hai..........

tune dil par dastak di ki haal mera behaal hua hai,
tune aise poocha ki chup rehna dushwaar hua hai,
tune aise izhaar kiya.ki bin bole ikraar hua hai,
aaj maine hai yeh jana ki "haan mujhe b pyar hua hai"


ik teri aahat sunke he kangan mere khanak gye
ik tere chune se he lab mere yuh mehak gye,
sirf teri chahat me he to sajna mera saakar hua hai,
aaj maine hai yeh jana haan mujhe b pyar hua hai!!!!


ik teri ho kar rehne ko to sab rishte naate manjoor hue,
ik tere pyar ko pane ko hum iss hadd tak majboor hue
ik teri bahhon me he to hume marr kar jeena bhaa gya,
ik teri hone k karan mujhe dukh sukh sehna aa gya


ik tere paas bulane se he aansoo saare beh gye,
ab kaise btaein hum tujhko hum tere ho k reh gye,
tere pehlu me jeena he ab meri ik dua hai,
aaj maine hai yeh jana "haan mujhe bhi pyar hua hai"


tujhse door ho kar rehna ab hume manjoor nhi,
kehde apne dil ki baat, tu itna bhi majboor nhi,
kehde mere dil ki dhadkan ne bhi dil tere ko choo liya,
kehde uss dhadkan ne he aaj tujhe majboor kiya,


humari iss mohhabat ne he dil tera bekraar kiya hai,
aaj tu iss jag se keh de
haan tune bhi pyar kiya hai
haan mujhse he pyar kiya hai....


:)

Wednesday, February 3, 2010

...............poem........

hey frns...dis tym i don`t have ny title for my poem!!! even dis tym i was not intersted in writing it on blog but sometyms we have to do sumthing we don`t want to....


aaj duniya se rudh jane ka jee chahta hai,
aaj teri baahon me toot jane ka jee chahta hai,
kuch chupakar,sab bhulakar, kuch ghabrakar,
par aaj tere pyar me lut jaane ka jee chahta hai....

tujhe pana to naa the hasrat humari,
par aaj teri ho jane ka jee chahta hai,
har roz ladti hun iss duniya se apni pehchan k liye,
par kabhi tere astitav me kho jane ka jee chahta hai,

main diye ki lau ki tarah rehti hun jagmagati,
par kabhi tere jhonke se bhujh jane ka jee chahta hai,

chupa kar rakhti hun inn ansuyon ko kahin dil me,
par kabhi teri gaud me samandar bahane ka jee chahta hai,

bachpan se bandha tha kuch seemayon me khudh ko,
par kabhi teri ik pukaar par unn seemayon ko tod aane ka jee chahta hai,

rehti hun parvaton ki chotiyon par main,
par aaj tere pairon ki mitti ban jane ka jee chahta hai,

jalti rehti hai mere ander ik aag,
tu aag ko raund de aisa mera jee chahta hai,

hun main sapna bahut see aankhon ka,
par aaj tera khawab bananne ka jee chahta hai,

main nhi mukammal the teri chahat se aaj tak,
aaj tujhe jana to teri chahat me fanna hone ka jee chahta hai!!