Friday, May 7, 2010

adhoorapan

sometyms we feel a lonliness in our lyf.....having both gud and bad side....
how we feel happy and sad jus wid an imagination of our sum1 spcl(who is sometyms still in our dreams).... if u too feel the same den plz let me know... :)

ik adhoorapan hai meri zindagi me,
meri khilkhilati hassi me..... meri udaas khamoshi me
jaise kuch pane ki khuwahish ho.....
ya kuch khone ka sapna!!!

yeh adhoorapan aksar mujhe mere sirhane milta hai....
shayd tere hone ka ehsaas dilata hai,
ya tujhe aur karreb laane ka shadyantra rachata hai........

kabhi meri jeet ki khushi me,kabhi meri aankho ki nami me,
kabhi akele raasto me,kabhi geele zakhmo ko sehla jata hai...
yeh adhoorapan!!

jab kehni ho apne mann ki baat to tera naam sujhata hai,
jab apne kal ko sochti hun tere chehre ke saath chala aata hai...
kabhi ho natkhat mujhe preet seekhata hai,
kabhi meri god ko aansuon se bhigha jata hai.....

kathor raaston pe phoolon sa, komal sej pe kaanto sa lagta hai
mujhe mera akelapan!!



इक अधूरापन है मेरी ज़िन्दगी में ,
मेरी खिलखिलाती हंसी में , मेरी उदास ख़ामोशी में ,
जैसे कुछ पाने की खुवाहिश हो ...
या कुछ खोने का सपना !!

यह अधूरापन अक्सर मुझे मेरे सिरहाने मिलता है .....
शायद तेरे होने का एहसास दिलाता है ,
या तुझे और करीब लाने का षड़यंत्र रचाता है

कभी मेरी जीत की ख़ुशी में, कभी मेरी आँखों की नमी में ,
कभी मेरे अकेले रास्तों में, कभी गीलें ज़ख्मों को सहलाने आ जाता है
यह अधूरापन .......

जब कहनी हो अपने मन की बात तो तेरा नाम सुझाता है ,
जब अपने कल को सोचती हूँ तो तेरे चेहरे के साथ चला आता है...
कभी हो नटखट मुझे प्रीत सीखाता है,
कभी मेरी गोद को आंसुओं से भिगाता है

कठोर रास्तों पे फूलों सा , कोमल सेज पे काँटों सा लगता है ...
मुझे मेरा अकेलापन !!!