Wednesday, June 2, 2010

vedna.......

dis is a real lyf story of a women whom u ppl know very well.....its how a gal whose childhood was lyk a princess but unfortunately got married in a family wer she was treated as servant....
and while doing ol d household work she missed her mom...
later wen she herself became a mother realised dat she hav to do sumthing for her children

the first part is abt her weakness and the second one is abt her powers...

n der is a request if u know her name den plz don mention it here....


part 1

jab iss andheri rasoi me apne sir ko apni god ka sahara dete hue
main bahar dekhti hun,mujhe meri maa ki yaad aati hai....

jab thak kar choor main kisi deewar ka sahara leti hun,
mujhe uss makhmali bistar si god ki yaad aati hai..

jo parchai aaj bhi inn aansuon ko churane aati hai,
dekh uss parchai ka chehra mujhe meri maa ki yaad aati hai,

jab dhool mitti se lath path ho jaati hun,
to mujhe uss besan k ubtan ki yaad aati hai,

jab taano fatkaro se mere kaan ghoonjh udhate hai to,
unhe chup karwane meri maa ki yaad aati hai,

saja kar rakhti the inn hasth kamlo ko wo,
har bartan ki mael ko htane meri maa ki yaad aati hai,

jab dekhti hun inn malik se rishto ko,
to bachpan ki kahaniyon se mujhe meri maa ki yaad aati hai,

raat ko bistar ki garmahat me,din ko ghar ki sajawat me,
jab meri jakhamon ko nocha jata hai to mujhe meri maa ki yaad rulati hai,

har jakham pe uski baaton ka marhum lagati hun,
har gum ko uski hassi se bhulati hun,
iss jahnum me uska aana mna hai,
isliye khuda ne uske liye jannat ka rasta chuna hai...........


part 2
ab main bhi maa ban gyi hun,
gilli mitti se pathar ban gyi hun,
kyunki mujhe inn bacho ko palana hai,
duniya misaal de inki uss saanhe me dhalna hai,

apne dukho ko apni takat bnaungi
apne toote hue sapno ko inki aankho me sajaungi,
inki umar ke saath saath humara honsla bhi badhega,
hume pairon me rondne wala humari ik lalkaar se darega,

main seeta ko or badi misaal bnaungi,
main apne liye sone ka mrig khudh le ke aayungi,
mere liye lakshman rekha kheenchi nhi jayegi,
meri agni priksha ho wo nobat nhi aayegi,


humare aansuon ko apni hassi banane wale,
ab apne paapon par pachtayenge,
hume thukrane wale humare he dar par gidgidayenge,

main nirmal paani si the,yahan zehar bnai gyi,
main shaant shabnam si the,yahan chingari si jalai gyi,
lakshmi saraswati si thukrai main,yahan chandi si apnai gyi,

saas bhai pati pita na koi zajbati hai,
hume rulane wala har koi apradhi hai,
khudh par hue julmon ko sare aam main bolungi,
insaaf ki devi ki aankhon se main patti kholungi,

apne bure waqt ko tumne khudh pukarra hai,
kisi ko maafi nhi milegi ab waqt humara hai!!

जब इस अँधेरी रसोई अपने सर को अपनी गोद का सहारा देते हुए
मैं बाहर देखती हूँ ,मुझे मेरी माँ की याद आती है
जब थक कर चूर मैं किसी दीवार का सहारा लेती हूँ,
मुझे उस मखमली बिस्तर सी गोद की याद आती है,

जो परछाई आज भी इन् आंसुओं को चुराने आती है,
देख उस परछाई का चेहरा मुझे मेरी माँ की याद आती है,
जब धुल मिटटी से लथ-पथ हो जाती हूँ,
तो मुझे उसके बेसन के उबटन की याद आती है,
जब तानो फटकारो से मेरे कान गूँज उठते है तो उन्हें चुप करवाने मेरी माँ की याद आती है,

सजा के रखती थे इन् हस्त कमलों को वो,
हर बर्तन की मैल को हटाने मेरी माँ की याद आती है,

जब देखती हूँ इन् मालिक से रिश्तों को
तो बचपन की कहानियों से मुझे मेरी माँ की याद आती है,

रात को बिस्तर की गर्माहट में ,दिन को घर की सजावट में,
जब मेरे ज़ख्मों को नोचा जाता है,मुझे मेरी माँ की याद रुलाती है....
हर ज़ख़्म पर उसकी बातों का मरहम लगाती हूँ,
हर गम को उसकी हस्सी से मिटाती हूँ,
इस जन्हुम में उसका आना मना है,
इसलिए खुदा ने उसके लिए जन्नत का रास्ता चुना है!!!!

२।
अब मैं भी माँ बन गयी हूँ ,
गिल्ली मिटटी से पत्थर बन गयी हूँ,
क्यूंकि मुझे इन् बच्चों को पालना है,
दुनिया मिसाल दे इनकी उस सांचे में ढालना है

अब मैं अपने दुखों को अपनी ताकत बनाउंगी
अपने टूटे हुए सपनो को इनकी आँखों में सजाऊँगी,
इनकी उम्र के साथ साथ हमारा होंसला भी बढेगा,
हमे पैरों में रोंधने वाला हमारी इक ललकार से डरेगा

मैं सीता को इक और बड़ी मिसाल बनाउंगी,
मैं अपने लिए सोने का मृग खुद ले के आयुंगी,
मेरे लिए कोई लक्ष्मण रेखा खींची नही जाएगी,
मेरी अग्नि परीक्षा हो वो नोबत नही आएगी......


हमारे आंसुओं को अपनी हस्सी बनाने वाले ,अपने पापों पर पछतायेंगे
हमे ठुकराने वाले हमारे दर पर gidhgidhayenge ,

मैं निर्मल पानी सी थी, यहाँ ज़हर बनाई गयी,
मैं शांत शबनम सी थे,यहाँ चिंगारी सी जलाई गयी,
लक्ष्मी सरस्वती सी ठुकराई मैं,यहाँ चंडी सी अपनाई गयी,

सास भाई पति पिता न कोई ज़ज्बाती है,
हमे रुलाने वाला हर कोई अपराधी है,
खुद पर हुए ज़ुल्मो को सरे आम मैं बोलूंगी,
इन्साफ की देवी की आँखों से मैं पट्टी खोलूंगी

अपने बुरे वक़्त को तुमने खुद पुकारा है,
किसी को माफ़ी नही मिलेगी अब वक़्त हमारा है
अब वक़्त हमारा है.........