Thursday, July 7, 2011

Sai...

kaise bayan karu teri kudrat,teri khudai,
har kadam par bna tu meri parchai,
teri murat ab mere jehan me hai samai,
ab sharan mein le lo tum sai,
ab darshan de do tum sai!!!

har musibat mein bane tum meri dhaal,
shirdi ganv me kiye tumne kayi kamaal,
bure raaste par jaane se tumne liya sambhal,
ab to suljha do moh-maya ka jaal....
ab to sharan me le lo tum sai,
ab to apna bna lo mujhe sai!!!

teri rehmat se chalta yeh sansaar hai,
jis par ho teri nazar uska beda he paar hai,
mujhe acchai ka raasta dikhate chalo,
mere pyaar ko yuh hin apnate chalo,.,.,.

apne bhakton me kahin iss nadaan ko bhool na jana,
jaisi hun teri hun, ant me tum mujhe apnana,.,.
ab to sharan me le lo sai,
ab to darshan de mujhe sai!!!!!
i love u bhagvan ji!!!

कैसे बयां करू तेरी कुदरत ,तेरी खुदाई ,
हर कदम पर बना तू मेरी परछाई ,
तेरी मूरत अब मेरे जेहन में है समाई ,
अब शरण में ले लो तुम साईं ,
अब दर्शन दे दो तुम साईं !!!

हर मुसीबत में बने तुम मेरी ढाल ,
शिर्डी गाँव में किये तुमने कई कमाल ,
बुरे रास्ते पर जाने से तुमने लिया सँभाल ,
अब तो सुलझा दो मोह -माया का जाल ....
अब तो शरण में ले लो तुम साईं ,
अब तो अपना बना लो मुझे साईं !!!

तेरी रहमत से चलता यह संसार है ,
जिस पर हो तेरी नज़र उसका बेडा ही पार है ,
मुझे अच्छाई का रास्ता दिखाते चलो ,
मेरे प्यार को यू ही अपनाते चलो ,.,.,.

अपने भक्तों में कहीं इस नादान को भूल न जाना ,
जैसी हूँ तेरी हूँ , अंत में तुम मुझे अपनाना ,.,.
अब तो शरण में ले लो साईं ,
अब तो दर्शन दे दो मुझे साईं !!!!!

Tuesday, May 3, 2011

mere paas laut aana

jab dil tumhara seham jaye,
jab duniya me apna koi nazar naa aaye,
jab tumhari aankhein aaine me khudh se nazarein churaye,
to pareshan mat hona, "mere paas laut aana"

manzil paane ki chhah me choor ho tum,
kamyabi ke garoor me madhosh ho tum,
par jab nakamyabi me sab saath chodh jaye,
or akeli raah me je gharbhraye, "mere paas laut aana"

jab sab dost apni zindagi me kho jaye,
jab mehfilon ka shor bhi sannata ban jaye,
jab jeet me bhi haar nazar aaye,
to udaas mat hona , "mere paas laut aana"

jab baarish me bhigne se aankhein nam ho jaye,
jab jee chahe ki tumhe apne pehlu me sulaye,
apni naazuk ungliyon ko tumahre baalon me ghumaye,
iss ehsaas ko paane ke liye, "mere paas laut aana"

chand lamho ki hoti hai yeh shaan -o-shohrat,
hawaan ke jhonke se he taash ke mehal dheh jaya karte hai,
thukra dete hai jo chand khushiyon ke liye apne pyar ko,
wahi aksar mehfilon me shayari sunaya karte hai,

main aaj bhi uss raaste pe chali jaa rahi hun,
choti choti khushiyon se ik sapna saja rahi hun,
tod de jab yeh duniya guroor tumhara,to ghabrana mat,
"mere paas laut aana"

hindi version:
जब दिल तुम्हारा सहम जाये ,
जब दुनिया में अपना कोई नज़र ना आये ,
जब तुम्हारी आँखें आईने में खुद से नज़रें चुराए ,
तो परेशान मत होना , "मेरे पास लौट आना "

मंजिल पाने की चाह में चूर हो तुम ,
कामयाबी के गरूर में मदहोश हो तुम ,
पर जब नाकामयाबी में सब साथ छोड़ जाये ,
और अकेली राह में जे घबराये , तब "मेरे पास लौट आना "

जब सब दोस्त अपनी जिंदगियो में खो जाये ,
जब महफिलों का शोर भी सन्नाटा बन जाये ,
जब जीत में भी हार नज़र आये ,
तो उदास मत होना , "मेरे पास लौट आना "

जब baarish में भीगने से आँखें नम हो जाये ,
जब जी चाहे की तुम्हे अपने पहलु में सुलाए ,
अपनी नाज़ुक उँगलियों को तुम्हरे बालों में घुमाये ,
इस एहसास को पाने के लिए , "मेरे पास लौट आना "

चाँद लम्हों की होती है यह शान -ओ -शोहरत ,
हवान के झोंके से ही ताश के महल धेह जाया करते है ,
ठुकरा देते है जो चंद खुशियों के लिए अपने प्यार को ,
वही अक्सर महफिलों में शायरी सुनाया करते है ,

मैं आज भी उसी रास्ते पे चली जा रही हूँ ,
छोटी छोटी खुशियों से इक सपना सजा हूँ ,
तोड़ दे जब यह दुनिया गुरूर तुम्हारा ,तो माउस मत होना ,
"मेरे पास लौट आना "

Sunday, April 3, 2011

Mulakaat

my serious apology to those who wont b able to understand dis.....

aaj yu hin tanah raaste me chalte hue mujhe wo mili,
wahi shaant hasta hua aur apni aankhon mein tanhayion ka samndar samet ta hua chehra,
itne saalon me kuch bhi na badla tha usme,
kuch badla tha to uski nazaron me mujhe dekhne ka nazaria....


ghanto yuhi sunsaan sadak par baithe rhe hum dono,
humari khamoshi ne ik dooje ko gale lagaya,
uss sanaate ne guftagu ki,
unn sile hue honthon ne aur num aankhon ne apnepan ka ehsaas dilaya
aur fir jhalakte hue aansuon ne ek ek yaad taaza kar di........


kitna darr rhi the main uss sehmi hui surat se,
itni bheedh bhari duniya mein , usne ek baar fir mujhe dhoondh liya tha....
maine usse hazzaron sawal pooche,
par wo khamosh rhi,
uss se itne saalon baad bhi zinda hone ka raaz poocha,
wo patthar ki tarah sithar the,

par jab main haar kar usse door chali,
to kisse bache ki kilkari si mitthi awaaz ne kaha-
" chahe tune mujh par kafan odha dia,
par tere he seene ki tanhayi me samaati hun main,
chahe laakh koshish kar tu mujhe kamjoor banane ki,
terei har koshish se apni aabha badhati hun main ,
chahe duniya ke saamne tu mujhe maar de "AALISHA"
par aaj bhi khuda ke aage khud ko "AALISHA" bulati hun main"....


hindi version:
आज यू हीं तनहा रास्ते में चलते हुए मुझे वो मिली ,
वही शांत हँसता हुआ और अपनी आँखों में तन्हयिओन का समन्दर समेट ता हुआ चेहरा ,
इतने सालों में कुछ भी न बदला था उसमे ,
कुछ बदला था तो उसकी नज़रों में मुझे देखने का नज़रिया ....


घंटो युही सुनसान सड़क पर बैठे रहे हम दोनों ,
हमारी ख़ामोशी ने इक दूजे को गले लगाया ,
उस सनाते ने गुफ्तगू की ,
उन् सिले हुए होंठो ने और नुम आँखों ने अपनेपन का एहसास दिलाया ,
और फिर झलकते हुए आंसुओं ने एक एक याद ताज़ा कर दी ........


कितना डर रही थे मैं उस सहमी हुई सूरत से ,
इतनी भीढ़ भरी दुनिया में , उसने एक बार फिर मुझे ढूंढ लिया था ....
मैंने उससे हज्ज़रों सवाल पूछे ,
पर वो खामोश रही ,
उस से इतने सालों बाद भी जिंदा होने का राज़ पुछा ,
वो पत्थर की तरह सथिर थी ,

पर जब मैं हार कर उससे दूर चली ,
तो किस्से बचे की किलकारी सी मिट्ठी आवाज़ ने कहा -
" चाहे तुने मुझ पर कफ़न ओढा दिया ,
पर तेरे हे सीने की तन्हाई में समाती हूँ मैं ,
चाहे लाख कोशिश कर तू मुझे कम्जूर बनाने की ,
तेरी हर कोशिश से अपनी आभा बढाती हूँ मैं ,
चाहे दुनिया के सामने तू मुझे मार दे "आलिशा "
पर आज भी खुदा के आगे खुद को गर्व से "आलिशा " बुलाती हूँ मैं "....

Thursday, January 6, 2011

my love

when i think about you,
i feel the freshness of the first dew.....
while drenching in rain,
your love making me insane.....

dancing, chatting , laughing, and playing with you
njying my childhood again,
without your name on my lips they turn blue
now i can understand that sweet pain..,.,

when i think about you
i feel the freshness of the first dew....

in my imaginary world there are just two people
one is me and another is you...
with your one touch my all pain blew.,.

तेरे साथ से मेरी आँखें खुले ,
हर रात तेरी बाहों में मैं सो जाऊ ,
मुझे देख किसी और के साथ तेरा दिल जले ,
युहीं तेरे ख्यालों में मैं खो जाऊ.,.

तेरी बाहों का आशियाना हो ,
तेरे नैनो में मैं घर बनाऊ ,
हर जाम तेरे लबों से पीती रहूँ ,
तेरी मुस्कान से अपना हर पल सजाऊं .....

when i think about you,
i feel the freshness of the first dew.......

there are zillons of people in this world,
but the loving hearts are very few..
i love the feeling of being with you,
though this feeling is very new.....

now i know what i want in my life,
my dream, my passion is being your wife...
when i think about you,
i feel the freshness of the first dew!!!!